@ Second Heaven.Com ( @ सैकेंड हैवन.कॉम )

Availability: Out of stock
₹250.00

Download E-Books

Quick Overview

इस उपन्यास की कहानी का बीज एक हवाई यात्रा के दौरान पड़ा। इकोनॉमी सेक्शन में सीटों की तंगी के कारण मुझे अपने सह-यात्री युवा दंपति की बातचीत को मजबूरन सुनना पड़ा, पत्नी के पहनावे से ऐसा लग रहा था कि हाल ही में उनकी शादी हुई है। बातचीत से पता लगा कि वे भारत से पलायन कर अमेरिका बसने जा रहे थे, पति-पत्नी से कह रहा था कि वह अपनी माँ को पीछे छोड़ आने का दोषी महसूस कर रहा है। आधे घंटे के भीतर ही पत्नी ने पति को आश्वस्त करते हुए इस बात के लिए राजी कर लिया कि उन्हें मां के लिए एक साथी ढूँढना चाहिए यानी माँ की शादी कर देनी चाहिए। पति ने भी न सिर्फ हामी भरी बल्कि मैरिज पोर्टल पर एक प्रोफाइल भी तैयार करने की बात करने लगे, हालांकि पति को शंका थी की माँ इस बात के लिए तैयार होगी या नहीं, हम अपने गंतव्य पर पहुँच गए थे अत नहीं पता उनका क्या हुआ?

कहानी पहली नजर में कई भावनात्मक रंगों और विचित्र दिखने वाली स्थितियों से भरे पेंडोरा बॉक्स की तरह सामने आती है। इस कहानी के पात्र मुझे अपने आसपास भी मिले जिन पर पहले कभी ध्यान नहीं गया था।

About The Author

नाम : डॉ. श्याम सखा 'श्याम'
जन्म : 28 अगस्त, 1948, रोहतक (स्कूल रिकार्ड में अप्रैल 1, 1946 तिथि दर्ज)
शिक्षा : M.B.B.S., FCGP
कृतियां : अंग्रेजी, हिन्दी, पंजाबी व हरियाणवी में कुल प्रकाशित 30, पांच उपन्यास, पांच कहानी संग्रह, छः कविता, एक दोहा सतसई, दो गजल संग्रह आदि। हिन्द पॉकेट बुक्स, नेशनल बुक ट्रस्ट, पेंगुइन पब्लिशर, सामयिक, किताब घर आदि से प्रकाशित।
अंग्रेजी उपन्यास strong women @ 2nd heaven.com
Medical books in Hindi कोरोना द वायरस A2Z, 160 page
1. डायबटीज, 2. स्वास्थ्य डॉक्टर रोग 3. महिला यौन रोग व यौन समस्याएं 4. पुरुष यौन रोग व यौन समस्याएँ
20 more in pipe line
सम्पादन : मसि-कागद (साहित्यिक त्रैमासिकी 11वर्ष)
हरिगंधा मासिक हरियाणा साहित्य अकादमी पत्रिका 5 वर्ष
सम्मान : लोक साहित्य व लोक कला का सर्वोच्च सम्मान पं. लखमीचन्द सम्मान (हरियाणा साहित्य अकादमी)। विभिन्न अकादमियों द्वारा 5 पुस्तकें (अकथ, घणी गई थोड़ी रही) (कथा संग्रह), समझणिये की मर (हरियाणवी उपन्यास), कोई फायदा नहीं (हिन्दी उपन्यास), इक सी बेला (पंजाबी कहानी संग्रह) तथा हिन्दी एवं पंजाबी की 10 कहानियाँ भी पुरस्कृत। राष्ट्रीय स्तर पर विभिन्न राज्यों की संस्थाओं द्वारा अनेक सम्मानों से अलंकृत।
इन्डियन मेडिकल एसोसिएशन द्वारा-चिकित्सा रत्न सम्मान
संप्रति : पूर्व निदेशक, हरियाणा साहित्य अकादमी पूर्व अध्यक्ष इन्डियन मेडिकल एसोसिएशन, हरियाणा प्रदेश

More Information
Name @ Second Heaven.Com ( @ सैकेंड हैवन.कॉम )
ISBN 9789355992802
Pages 202
Language Hindi
Author Dr. Shyam Sakha Shyam
Format Paperback
UB Label New

इस उपन्यास की कहानी का बीज एक हवाई यात्रा के दौरान पड़ा। इकोनॉमी सेक्शन में सीटों की तंगी के कारण मुझे अपने सह-यात्री युवा दंपति की बातचीत को मजबूरन सुनना पड़ा, पत्नी के पहनावे से ऐसा लग रहा था कि हाल ही में उनकी शादी हुई है। बातचीत से पता लगा कि वे भारत से पलायन कर अमेरिका बसने जा रहे थे, पति-पत्नी से कह रहा था कि वह अपनी माँ को पीछे छोड़ आने का दोषी महसूस कर रहा है। आधे घंटे के भीतर ही पत्नी ने पति को आश्वस्त करते हुए इस बात के लिए राजी कर लिया कि उन्हें मां के लिए एक साथी ढूँढना चाहिए यानी माँ की शादी कर देनी चाहिए। पति ने भी न सिर्फ हामी भरी बल्कि मैरिज पोर्टल पर एक प्रोफाइल भी तैयार करने की बात करने लगे, हालांकि पति को शंका थी की माँ इस बात के लिए तैयार होगी या नहीं, हम अपने गंतव्य पर पहुँच गए थे अत नहीं पता उनका क्या हुआ?

कहानी पहली नजर में कई भावनात्मक रंगों और विचित्र दिखने वाली स्थितियों से भरे पेंडोरा बॉक्स की तरह सामने आती है। इस कहानी के पात्र मुझे अपने आसपास भी मिले जिन पर पहले कभी ध्यान नहीं गया था।

About The Author

नाम : डॉ. श्याम सखा 'श्याम'
जन्म : 28 अगस्त, 1948, रोहतक (स्कूल रिकार्ड में अप्रैल 1, 1946 तिथि दर्ज)
शिक्षा : M.B.B.S., FCGP
कृतियां : अंग्रेजी, हिन्दी, पंजाबी व हरियाणवी में कुल प्रकाशित 30, पांच उपन्यास, पांच कहानी संग्रह, छः कविता, एक दोहा सतसई, दो गजल संग्रह आदि। हिन्द पॉकेट बुक्स, नेशनल बुक ट्रस्ट, पेंगुइन पब्लिशर, सामयिक, किताब घर आदि से प्रकाशित।
अंग्रेजी उपन्यास strong women @ 2nd heaven.com
Medical books in Hindi कोरोना द वायरस A2Z, 160 page
1. डायबटीज, 2. स्वास्थ्य डॉक्टर रोग 3. महिला यौन रोग व यौन समस्याएं 4. पुरुष यौन रोग व यौन समस्याएँ
20 more in pipe line
सम्पादन : मसि-कागद (साहित्यिक त्रैमासिकी 11वर्ष)
हरिगंधा मासिक हरियाणा साहित्य अकादमी पत्रिका 5 वर्ष
सम्मान : लोक साहित्य व लोक कला का सर्वोच्च सम्मान पं. लखमीचन्द सम्मान (हरियाणा साहित्य अकादमी)। विभिन्न अकादमियों द्वारा 5 पुस्तकें (अकथ, घणी गई थोड़ी रही) (कथा संग्रह), समझणिये की मर (हरियाणवी उपन्यास), कोई फायदा नहीं (हिन्दी उपन्यास), इक सी बेला (पंजाबी कहानी संग्रह) तथा हिन्दी एवं पंजाबी की 10 कहानियाँ भी पुरस्कृत। राष्ट्रीय स्तर पर विभिन्न राज्यों की संस्थाओं द्वारा अनेक सम्मानों से अलंकृत।
इन्डियन मेडिकल एसोसिएशन द्वारा-चिकित्सा रत्न सम्मान
संप्रति : पूर्व निदेशक, हरियाणा साहित्य अकादमी पूर्व अध्यक्ष इन्डियन मेडिकल एसोसिएशन, हरियाणा प्रदेश

  • Free Shipping on orders Above INR 600 Valid In India Only
  • Self Publishing Get Your Self Published
  • Online support 24/7 10am to 7pm+91-9716244500