Art of War in Hindi (युद्ध की कला)

₹150.00
-
+

Download E-Books

Quick Overview

आर्ट ऑफ वॉर (युद्ध की कला) - इस प्राचीन ग्रंथ की शिक्षाएं आज भी प्रासंगिक बनी हुई हैं-पच्चीस शताब्दियों से भी अधिक समय पहले इसे लिखा गया था; क्योंकि इसके निर्देश किसी भी क्षेत्र में लागू किए जा सकते हैं। आर्ट ऑफ वॉर अर्थात् 'युद्ध की कला' किसी भी राष्ट्र के लिए अत्यंत महत्त्वपूर्ण है। इससे जीवन और मृत्यु का निर्धारण होता है। यह एक ऐसा मार्ग है, जहां या तो सुरक्षा है या फिर विनाश। अतः यह एक ऐसा गहनतम् विषय है, जिसकी किसी भी कारणवश उपेक्षा नहीं की जा सकती है।"। आर्ट ऑफ वॉर एक अमर कृति है, जिसका पूर्वी एशिया की संस्कृति एवं इतिहास में विशेष स्थान है। युद्ध और सैन्य रणनीति के दर्शन और राजनीति पर आधारित यह प्राचीन चीनी ग्रंथ ई.पू. छठी शताब्दी के एक सुप्रसिद्ध योद्धा-दार्शनिक सुन त्जू द्वारा लिखा गया।

 

About the Author

सुन त्जू का दर्शन आज भी नेताओं और रणनीतिकारों के लिए उतना ही प्रासंगिक है, जितना कि प्राचीनकाल में शासकों और सैन्य जनरलों के लिए था। तेरह अध्यायों में प्रस्तुत यह पुस्तक आर्ट ऑफ वॉर हर उस व्यक्ति को अवश्य पढ़नी चाहिए, जो प्रतिस्पर्धी वातावरण में काम करता है या जो युद्ध और रणनीति में रुचि रखता है।
More Information
Name Art of War in Hindi (युद्ध की कला)
ISBN 9789354864544
Pages 80
Language Hindi
Author Sun Tzu
Format Paperback
Genres Science Fiction, Fantasy & Horror
UB Label New

आर्ट ऑफ वॉर (युद्ध की कला) - इस प्राचीन ग्रंथ की शिक्षाएं आज भी प्रासंगिक बनी हुई हैं-पच्चीस शताब्दियों से भी अधिक समय पहले इसे लिखा गया था; क्योंकि इसके निर्देश किसी भी क्षेत्र में लागू किए जा सकते हैं। आर्ट ऑफ वॉर अर्थात् 'युद्ध की कला' किसी भी राष्ट्र के लिए अत्यंत महत्त्वपूर्ण है। इससे जीवन और मृत्यु का निर्धारण होता है। यह एक ऐसा मार्ग है, जहां या तो सुरक्षा है या फिर विनाश। अतः यह एक ऐसा गहनतम् विषय है, जिसकी किसी भी कारणवश उपेक्षा नहीं की जा सकती है।"। आर्ट ऑफ वॉर एक अमर कृति है, जिसका पूर्वी एशिया की संस्कृति एवं इतिहास में विशेष स्थान है। युद्ध और सैन्य रणनीति के दर्शन और राजनीति पर आधारित यह प्राचीन चीनी ग्रंथ ई.पू. छठी शताब्दी के एक सुप्रसिद्ध योद्धा-दार्शनिक सुन त्जू द्वारा लिखा गया।

 

About the Author

सुन त्जू का दर्शन आज भी नेताओं और रणनीतिकारों के लिए उतना ही प्रासंगिक है, जितना कि प्राचीनकाल में शासकों और सैन्य जनरलों के लिए था। तेरह अध्यायों में प्रस्तुत यह पुस्तक आर्ट ऑफ वॉर हर उस व्यक्ति को अवश्य पढ़नी चाहिए, जो प्रतिस्पर्धी वातावरण में काम करता है या जो युद्ध और रणनीति में रुचि रखता है।
  • Free Shipping on orders Above INR 600 Valid In India Only
  • Self Publishing Get Your Self Published
  • Online support 24/7 10am to 7pm+91-9716244500