21 Shreshth Naariman ki Kahaniyan : Gujrat (21 श्रेष्ठ नारीमन की कहानियां : गुजरात)

Availability: In stock
₹175.00
-
+

Download E-Books

Quick Overview

भारत एक विशाल देश है, जिसमें अनेकों सभ्यताओं, परंपराओं का समावेश है। विभिन्न राज्यों के पर्व-त्योहार, रहन-सहन का ढंग, शैक्षिक अवस्था, वर्तमान और भविष्य का चिंतन, भोजन की विधियां, सांस्कृतिक विकास, मुहावरे, पोशाक और उत्सव इत्यादि की जानकारी कथा-कहानी के माध्यम से भी मिलती है। भारत के सभी प्रदेशों के निवासी साहित्य के माध्यम से एक-दूसरे को जानें, समझें और प्रभावित हो सके, ऐसा साहित्य उपलब्ध करवाना हमारा प्रमुख उद्देश्य है।
भारत की आजादी के 75 वर्ष (अमृत महोत्सव ) पूर्ण होने पर डायमंड बुक्स द्वारा 'भारत कथा माला' का अद्भुत प्रकाशन।

 

About the Author

नाम- डॉ० ज्योति सिंह
जन्म- 12.06.1979
माता जी- श्रीमती कानन कौशल सिंह
पिता जी- डॉ. देवनाथ सिंह
पति- डॉ० राजू सिंह
शिक्षा- एम.ए, हिन्दी (कलकत्ता विश्वविद्यालय), पीएच०डी० हिन्दी पत्रकारिता (वर्द्धमान विश्वविद्यालय), पीएच०डी० का विषय - स्वाधीनता आन्दोलन और स्त्री मक्ति संघर्ष में 'चाँद' का योगदान, डिप्लोमा इन लेक्चरर, बी.एड., डिप्लोमा इन ट्रान्सलेटर (रवीन्द्र भारतीय विश्वविद्यालय)।
कार्य क्षेत्र- सहायक प्राध्यापिका हिन्दी (वीर नर्मद दक्षिण गुजरात विश्वविद्यालय सूरत)
सुजन- छंद मुक्त,तुकान्त, अतुकांत सृजन, समसामायिक विषयों पर आलोचनात्मक तथा शोधपरक । लेख विविध पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित। इसके साथ सामाजिक कार्यों में भागीदारी। काव्य गोष्ठी में पाठ करते रहना।
प्रकाशित पुस्तकें- 1. मेरी साँसे तेरा जीवन (दोहा साँझा संग्रह),2. सुगन्ध परिधि में (साँझा काव्य संग्रह ), 3. संस्कृत साहित्य, संस्कृति : दशा एवं दिशा (सहलेखिका).4.21वीं सदी की हिन्दी कविता (सह लेखिका ).5. रश्मि कलश, साँझा काव्य-संग्रह, 6. स्वाधीनता आन्दोलन और स्त्री मुक्ति संघर्ष में 'चाँद' का योगदान (हिन्दी पत्रकारिता की मूल पुस्तक).7. निराला का काव्य संसार, 8. समावेशी और गुणात्मक शिक्षा : चुनौतियाँ और मुद्दे, गिना प्रकाशन, प्र० सं०- 2018,9. दिनकर और राष्ट्रीयता के नए आयाम, सदीनामा प्रकाशन, प्र० सं० 2018, 10. यात्रा साहित्य अखिल भारतीय साहित्य परिषद न्यास, प्र० सं०-2018, 11. भक्ति आन्दोलन और भारतीयता, 12. आधुनिक हिन्दी साहित्य की प्रासंगिकता, 13. भारतीय साहित्य व समाज के विविध स्वरुप, 14. हिन्दी भक्ति काव्यधारा में हरियाणा का योगदान, 15. समकालीन साहित्य : स्त्री, समाज और संस्कृति, 16. फणीश्वरनाथ रेणु का व्यक्तित्व और कृतित्व, आनन्द प्रकाशन, 17. दिनकरः साहित्य साधना (द्वितीय खण्ड)
More Information
Name 21 Shreshth Naariman ki Kahaniyan : Gujrat (21 श्रेष्ठ नारीमन की कहानियां : गुजरात)
ISBN 9789354868153
Pages 166
Language Hindi
Author Dr. Jyoti Singh
Format Paperback
UB Label New

भारत एक विशाल देश है, जिसमें अनेकों सभ्यताओं, परंपराओं का समावेश है। विभिन्न राज्यों के पर्व-त्योहार, रहन-सहन का ढंग, शैक्षिक अवस्था, वर्तमान और भविष्य का चिंतन, भोजन की विधियां, सांस्कृतिक विकास, मुहावरे, पोशाक और उत्सव इत्यादि की जानकारी कथा-कहानी के माध्यम से भी मिलती है। भारत के सभी प्रदेशों के निवासी साहित्य के माध्यम से एक-दूसरे को जानें, समझें और प्रभावित हो सके, ऐसा साहित्य उपलब्ध करवाना हमारा प्रमुख उद्देश्य है।
भारत की आजादी के 75 वर्ष (अमृत महोत्सव ) पूर्ण होने पर डायमंड बुक्स द्वारा 'भारत कथा माला' का अद्भुत प्रकाशन।

 

About the Author

नाम- डॉ० ज्योति सिंह
जन्म- 12.06.1979
माता जी- श्रीमती कानन कौशल सिंह
पिता जी- डॉ. देवनाथ सिंह
पति- डॉ० राजू सिंह
शिक्षा- एम.ए, हिन्दी (कलकत्ता विश्वविद्यालय), पीएच०डी० हिन्दी पत्रकारिता (वर्द्धमान विश्वविद्यालय), पीएच०डी० का विषय - स्वाधीनता आन्दोलन और स्त्री मक्ति संघर्ष में 'चाँद' का योगदान, डिप्लोमा इन लेक्चरर, बी.एड., डिप्लोमा इन ट्रान्सलेटर (रवीन्द्र भारतीय विश्वविद्यालय)।
कार्य क्षेत्र- सहायक प्राध्यापिका हिन्दी (वीर नर्मद दक्षिण गुजरात विश्वविद्यालय सूरत)
सुजन- छंद मुक्त,तुकान्त, अतुकांत सृजन, समसामायिक विषयों पर आलोचनात्मक तथा शोधपरक । लेख विविध पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित। इसके साथ सामाजिक कार्यों में भागीदारी। काव्य गोष्ठी में पाठ करते रहना।
प्रकाशित पुस्तकें- 1. मेरी साँसे तेरा जीवन (दोहा साँझा संग्रह),2. सुगन्ध परिधि में (साँझा काव्य संग्रह ), 3. संस्कृत साहित्य, संस्कृति : दशा एवं दिशा (सहलेखिका).4.21वीं सदी की हिन्दी कविता (सह लेखिका ).5. रश्मि कलश, साँझा काव्य-संग्रह, 6. स्वाधीनता आन्दोलन और स्त्री मुक्ति संघर्ष में 'चाँद' का योगदान (हिन्दी पत्रकारिता की मूल पुस्तक).7. निराला का काव्य संसार, 8. समावेशी और गुणात्मक शिक्षा : चुनौतियाँ और मुद्दे, गिना प्रकाशन, प्र० सं०- 2018,9. दिनकर और राष्ट्रीयता के नए आयाम, सदीनामा प्रकाशन, प्र० सं० 2018, 10. यात्रा साहित्य अखिल भारतीय साहित्य परिषद न्यास, प्र० सं०-2018, 11. भक्ति आन्दोलन और भारतीयता, 12. आधुनिक हिन्दी साहित्य की प्रासंगिकता, 13. भारतीय साहित्य व समाज के विविध स्वरुप, 14. हिन्दी भक्ति काव्यधारा में हरियाणा का योगदान, 15. समकालीन साहित्य : स्त्री, समाज और संस्कृति, 16. फणीश्वरनाथ रेणु का व्यक्तित्व और कृतित्व, आनन्द प्रकाशन, 17. दिनकरः साहित्य साधना (द्वितीय खण्ड)
  • Free Shipping on orders Above INR 600 Valid In India Only
  • Self Publishing Get Your Self Published
  • Online support 24/7 10am to 7pm+91-9716244500
OTHER WEBSITES